Ross Taylor Racism: भारतीय समझकर गाली देते थे अपने ही साथी खिलाड़ी… रॉस टेलर का छलका दर्द

Posted on

न्यूजीलैंड के महान खिलाड़ियों में शामिल रॉस टेलर ने अपनी बायोग्राफी में नस्लवाद का खुलासा करते हुए हैरान कर दिया है। उन्होंने बताया कि उनके टीममेट उन्हें भारतीय समझकर गाली देते थे।

न्यूजीलैंड के पूर्व क्रिकेटर रॉस टेलर ने अपनी बायोग्राफी में न्यूजीलैंड क्रिकेट में नस्लवाद के बारे में खुलासा किया है। ‘रॉस टेलर ब्लैक ऐंड वाइट’ शीर्षक से अपनी बायोग्राफी में टेलर ने कहा कि न्यूजीलैंड में क्रिकेट एक साफ सुथरा खेल है। हालांकि, उन्होंने ड्रेसिंग रूम के अंदर नस्लवाद का अनुभव किया। पूर्व दिग्गज ने कहा कि वहां उन्हें ‘बंटर’ कहकर बुलाया जाता था।

टेलर ने कहा, ‘न्यूजीलैंड में क्रिकेट को अच्छा खेल माना जाता है। अपने अधिकांश करियर में मैं एक अलग खिलाड़ी रहा हूं।’ इस पूर्व बैटर ने आगे कहा, ‘लोग कहेंगे कि ये सब मजाक था। इससे कुछ नुकसान नहीं हुआ तो आप उनको बेवजह तूल क्यों दे रहे हैं? इससे अच्छा है कि आप अपनी ही चमड़ी मोटी कर लो। जो हो रहा है, होने दो। लेकिन क्या ऐसा करना सही बात है?’

भारतीय मानते थे मुझे
न्यूजीलैंड के एक अखबार में प्रकाशित बायोग्राफी के एक अंश में टेलर ने लिखा, ‘यह देखते हुए कि पॉलिनेशियन समुदाय का खेल में कम प्रतिनिधित्व है। यह शायद कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि लोग कभी-कभी यह मान लेते हैं कि मैं माओरी या भारतीय हूं। टीम के एक साथी ने एक बार मुझसे कहा था कि रॉस, तुम आधे अच्छे आदमी हो, लेकिन कौन सा आधा अच्छा है? ये बात आपको नहीं पता। जबकि मुझे समझ आ गया था कि वो क्या कह रहे हैं। टीम के कुछ अन्य खिलाड़ियों को भी इस तरह की नस्लीय टिप्पणी का सामना करना पड़ता था।’

खराब शॉट पर ‘गंदे शब्द’
टेलर ने कहा कि न्यूजीलैंड में गोरे खिलाड़ियों का वर्चस्व रहता है। उन्होंने कहा, ‘कई बार होता था जब मैं खराब शॉट खेलता था तो उसको लेकर बहुत ही गंदे शब्दों का इस्तेमाल किया जाता था। हालांकि उसी तरह के शॉट को लेकर टीम के बाकी बल्लेबाजों के लिए ऐसा कुछ नहीं कहा जाता था। खराब शॉट खेलने पर मेरे लिए अभद्र शब्दों का इस्तेमाल किया जाता था, जबकि वही शॉट कोई और खेलता तो उसको खराब शॉट सेलेक्शन कहा जाता था।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *