इस तरह के ‘शिवलिंग’ की पूजा करने से ‘दरिद्रता’ का होता है नाश, भगवान शिव की कृपा से होती है ‘लक्ष्मी’ की प्राप्ति !

Posted on

वैसे तो भगवान शिव की पूजा 12 माह में से कभी भी की जा सकती है लेकिन हिंदू कैलेंडर के अनुसार साल का पांचवा महीना सावन का होता है. ये माह भगवान शिव को ही समर्पित होता है और इस माह में भोलेनाथ की पूजा करने से विशेष फलों की प्राप्ति होती है. सावन में भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए कोई नियमित रूप से जल अर्पित करता है, तो कोई सोमवार के व्रत रखता है. अलग-अलग तरीकों से भगवान शिव की कृपा पाने के लिए कई तरह के प्रयास किए जाते हैं.

ग्रंथों में भी भगवान शिव को प्रसन्न करने के कई उपायों के बारे में बताया गया है. मान्यता है कि सावन में विभिन्न धातुओं और रत्नों से बने शिवलिंग का अभिषेक करने से व्यक्ति की सभी इच्छाएं पूरी होती हैं. आइए जानते हैं किस धातु और रत्न की पूजा से व्यक्ति को किन फल की प्राप्ति होती है.

धातु के शिवलिंग की पूजा

मान्यता है कि अगर लोहे से बने शिवलिंग का नियमित रूप से शुद्ध जल से अभिषेक किया जाए, तो शत्रओं का नाश होता है. वहीं, ताबें से बने शिवलिंग पर अभिषेक करने से लंबा और स्वस्थ जीवन की प्राप्ति होती है.

पीतल के शिवलिंग

पीतल के शिवलिंग के अभिषेक से व्यक्ति को सांसारिक सुखों की प्राप्ति होती है. वहीं, मान-सम्मान के लिए व्यक्ति को चांदी के शिवलिंग का अभिषेक करना चाहिए.

सोने के शिवलिंग 

कहते हैं कि सोने की शिवलिंग का अभिषेक करने से व्यक्ति को लंबी उम्र और धन लाभ की प्राप्ति होती है. और कांसे के शिवलिंग से व्यक्ति को प्रसिद्धि मिलती है.

स्फटिक के शिवलिंग

ग्रंथों के अनुसार स्फटिक के शिवलिंग का अभिषेक करने से व्यक्ति की सभी इच्छाएं पूरी हो जाती है. हीरे से बने हुए शिवलिंग की पूजा करने से व्यक्ति की उम्र लंबी होती है. नीलम से बने शिवलिंग का अभिषेक करने से मान-सम्मान की प्राप्ति होती है.

रत्नों के शिवलिंग

अगर आप रोगों से छुटकारा पाना चाहते हैं तो मोती के शिवलिंग की पूजा करें. रूबी शिवलिंग से सूर्य, मूंगे से मंगल और पन्ने से बने शिवलिंग की पूजा से बुध ग्रह दोषों से मुक्ति मिलती है.  की पूजा करने से व्यक्ति के वैवाहिक जीवन में खुशहाली आती है.

पारद के शिवलिंग

पारद से बने शिवलिंग की पूजा करने से सभी सुखों की प्राप्ति होती है. इसलिए शास्त्रों मे इस शिवलिंग को सबसे विशेष माना गया है. मान्यता है कि पारद से बने शिवलिंग की पूजा करने से व्यक्ति कभी गरीब नहीं होता. उस पर देवी लक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.