मीन राशि में गुरु, शुक्र और मंगल का त्रिग्रही योग, इन 3 राशि वालों को होगा फायदा !

Posted on

वैदिक ज्योतिषशास्त्र में ग्रहों के राशि परिवर्तन और एक राशि में दो ग्रहों के युति का विशेष महत्व होता है। जब भी दो ग्रहों की युति होती है तो इसका प्रभाव सभी 12 राशियों के ऊपर होता है। इसके आलावा राशि में तीन ग्रहों का एक साथ आना त्रिग्रही योग कहलाता है। दरअसल गुरु के स्वामित्व वाली मीन राशि में त्रिग्रही योग का निर्माण हो रहा है। मीन राशि में त्रिग्रही योग से कुछ राशि के जातकों पर इसका शुभ प्रभाव पड़ेगा। वैदिक पंचांग के अनुसार 17 मई को पराक्रमी ग्रह मंगल मीन राशि में प्रवेश कर चुके हैं। इसके पहले इस राशि में देवगुरु वृहस्पति और सुख-वैभव प्रदान करने वाले शुक्र ग्रह विराजमान है। शुक्र, गुरु और मंगल ग्रह के मीन राशि में होने पर त्रिग्रही योग बन रहा है जिसक चलते कुछ राशियों पर प्रभाव पड़ेगा।

वृष राशि

वृषभ राशि शुक्र ग्रह की स्वराशि है। इस राशि के स्वामी शुक्र ग्रह लाभ स्थान में मौजूद है। मीन राशि में त्रिग्रही योग से आपके लिए अच्छे और शुभ योग बन रहे हैं। नौकरी में प्रमोशन और धन लाभ के संकेत है। कोई भी बड़े से बड़ा कार्य आरंभ करना हो उसमें सफलता जरूर मिलेगी। उच्चाधिकारियों से संबंध मजबूत होंगे और सहयोग भी मिलेगा। रोजगार की दिशा में किया गया हर प्रयास सफल रहेगा। प्रेम संबंधी मामलों में उदासीनता रहेगी।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के लोगों को त्रिग्रही योग से भाग्य का भरपूर साथ मिलेगा। आपके लिए वैवाहिक जीवन और व्यापार में सुख-समृद्धि का सूचक है। पैतृक संपत्ति से आपको अच्छा खासा मुनाफा मिलने के संकेत है। छात्रों को प्रतियोगी परीक्षा में सफलता प्राप्त होगी। जमीन जायदाद से जुड़े मामलों का निपटारा होगा। किसी नए अनुबंध पर हस्ताक्षर करना हो तो उस दृष्टि से भी प्रभाव बेहतरीन रहेगा। आय के साधन बढ़ेंगे काफी दिनों का दिया गया धन भी वापस मिलने के योग है। वाहन का क्रय करना चाह रहे हों तो उस दृष्टि से ही ग्रह गोचर अनुकूल रहेगा।

वृश्चिक राशि

आपके लिए लाभ की स्थिति बनने के पूरे योग है। अचानक आपको धन लाभ की प्राप्ति होने से आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। आपके लिए सुख और ऐशोआराम में वृद्धि होगी। नवदंपति के लिए संतान प्राप्ति एवं प्रादुर्भाव के भी योग। उच्चाधिकारियों से संबंध बढेगा। परिवार के वरिष्ठ सदस्यों तथा बड़े भाइयों से मतभेद बढ़ने न दें। अपनी ऊर्जाशक्ति के बल पर कठिन परिस्थितियों पर भी आसानी से विजय प्राप्त करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *